स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ८ ]

स्वप्नफल एवं अचूक उपाय मानव मन का स्वप्नों के साथ गहरा संबंध है निद्रा की अवस्था में भी मस्तिष्क सक्रिय रहता है। अवचेतन मन की इच्छाएँ, दिन प्रतिदिन के तनाव एवं चिन्ताएं स्वप्न के रूप में दिखाई देती हैं। मनोवैज्ञानिक यह भी मानते हैं कि कभी-कभी स्वप्न भविष्य में होने…

Continue Reading स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ८ ]

स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ७ ]

स्वप्न व शकुन से भविष्य में होने वाली घटनाओं का ज्ञान धन लाभ अग्नि हाथ में लेना, आग लगना, कीड़े-मकोड़े देखना, आम का पेड़ देखना, पके हुए आम देखना या खाना, चंदन देखना, अनार फल प्राप्ति, मंदिर पर चढ़ना, दूध पीना, दफन विधि, शौच का जाना या लगना देखना, हाथी…

Continue Reading स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ७ ]

स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ६ ]

क्या है स्वप्न का विज्ञान ? आदि काल से ही मानव मस्तिष्क अपनी इच्छाओं की पूर्ति करने के प्रयत्नों में सक्रिय है। परंतु जब किसी भी कारण इसकी कुछ अधूरी इच्छाएं पूर्ण नहीं हो पाती (जो कि मस्तिष्क के किसी कोने में जाग्रत अवस्था में रहती है) तो वह स्वप्न…

Continue Reading स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ६ ]

स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ५ ]

शुभाशुभ स्वप्नों के पुराणोक्त फल जागृतावस्था में देखे, सुने एवं अनुभूत प्रसंगों की पुनरावृत्ति, सुषुप्तावस्था में मनुष्य को किसी न किसी रूप में एवं कभी-कभी बिना किसी तारतम्य के, शुभ और अशुभ स्वप्न के रूप में, दिग्दर्शित होती है, जिससे स्वप्न दृष्टा स्वप्न में ही आह्‌लादित, भयभीत और विस्मित होता…

Continue Reading स्वप्न : एक अध्ययन [ भाग – ५ ]

End of content

No more pages to load