चतुर्मास विशेष

  चतुर्मास विशेष भगवान विष्णु गुरुतत्व में गुरु जहाँ विश्रांति पाते हैं, ऐसे आत्मदेव में भगवान विष्णु ४ महीने समाधिस्त रहेंगे | उन दिनों में शादी विवाह वर्जित है, सकाम कर्म वर्जित है| ये करना - जलाशयों में स्नान करना तिल और जौं को पीसकर मिक्सी में रख दिया थोड़ा…

Continue Reading चतुर्मास विशेष

चतुर्मास में बिल्वपत्र की महत्ता

चतुर्मास में बिल्वपत्र की महत्ता चतुर्मास में शीत जलवायु के कारण वातदोष प्रकुपित हो जाता है। अम्लीय जल से पित्त भी धीरे-धीरे संचित होने लगता है। हवा की आर्द्रता (नमी) जठराग्नि को मंद कर देती है। सूर्यकिरणों की कमी से जलवायु दूषित हो जाते हैं। यह परिस्थिति अनेक व्याधियों को…

Continue Reading चतुर्मास में बिल्वपत्र की महत्ता

रायपुर आश्रम में चातुर्मास श्रीआशारामायण पाठ का भव्य समापन

रायपुर आश्रम में चातुर्मास श्रीआशारामायण पाठ का भव्य समापन पूज्य बापूजी के शुभ आशीष से वर्ष 2005 से रायपुर आश्रम द्वारा चातुर्मास के पावन दिनों में साधकों के निवास पर प्रतिदिन श्री आशारामायण पाठ व भजन कीर्तन का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष 2017 में देवशयनी एकादशी से…

Continue Reading रायपुर आश्रम में चातुर्मास श्रीआशारामायण पाठ का भव्य समापन

चातुर्मास में प्रतिदिन पाठ करने हेतु – “पुरुष सूक्त”

पुरुष सूक्त ( चातुर्मास विशेष ) चातुर्मास में जो भगवन विष्णु के समक्ष पुरुष सूक्त का पाठ करता है उसकी बुद्धि बढ़ेगी | कैसा भी दबू विद्यार्थी हो बुद्धिमान बनेगा | ॐ श्री गुरुभ्यो नमः हरी ॐ सहस्त्रशीर्षा पुरुष:सहस्राक्ष:सहस्रपात् | स भूमि सर्वत: स्पृत्वाSत्यतिष्ठद्द्शाङ्गुलम् ||१|| जो सहस्रों सिरवाले, सहस्रों नेत्रवाले…

Continue Reading चातुर्मास में प्रतिदिन पाठ करने हेतु – “पुरुष सूक्त”

End of content

No more pages to load