माली की कहानी – ब्रह्मचर्य

एक था माली | उसने अपना तन, मन, धन लगाकर कई दिनों तक परिश्रम करके एक सुन्दर बगीचा तैयार किया | उस बगीचे में भाँति-भाँति के मधुर सुगंध युक्त पुष्प खिले | उन पुष्पों को चुनकर उसने इकठ्ठा किया और उनका बढ़िया इत्र तैयार किया | फिर उसने क्या किया समझे आप …? उस इत्र को एक गंदी नाली ( मोरी )…

Continue Reading माली की कहानी – ब्रह्मचर्य

युवानों सावधान ! ʹप्रेमʹ क्या हैं समझो …

भारतभूमि ऋषि, मुनियों, अवतारों की भूमि है। यहाँ पहले लोग आपस में मिलते तो ʹराम-रामʹ कहकर एक दूसरे का अभिवादन करते थे। दो बार ही ʹरामʹ क्यों कहते थे ? दो बार राम कहने के पीछे कितना सुंदर अर्थ छुपा है कि सामने वाले व्यक्ति तथा मुझमें, दोनों में उसी राम-परमात्मा-ईश्वर की चेतना है, उसे प्रणाम…

Continue Reading युवानों सावधान ! ʹप्रेमʹ क्या हैं समझो …

Divya Prerna Prakash (दिव्य प्रेरणा प्रकाश)

From the Satsang of His Holiness Sant Sri Asaramji Bapu and Quotes of those benefited by the grace of His Holiness Sant Sri Asaramji Bapu.                                                                  Divine Inspiration:                                                        The Secret of Eternal Youth“Many good persons have been degraded by following the Freudian psychology, whereas many ordinary people have become great by following…

Continue Reading Divya Prerna Prakash (दिव्य प्रेरणा प्रकाश)

End of content

No more pages to load