भविष्यपुराण भाग – १३०

ॐ श्रीपरमात्मने नम : श्रीगणेशाय नम: ॐ नमो भगवते वासुदेवाय भविष्यपुराण उत्तरपर्व अध्याय – २९ स्थालीनदान की महिमा में द्रोपदी के पूर्वजन्म की कथा महाराज युधिष्ठिरने कहा – भगवन ! आपके द्वारा अन्नदान के माहात्म्य को सुनकर मुझे भी एक बात स्मरण आ रही है | जिसे मैंने अपनी आँखों…

Continue Reading भविष्यपुराण भाग – १३०

भविष्यपुराण भाग – १२९

ॐ श्रीपरमात्मने नम : श्रीगणेशाय नम: ॐ नमो भगवते वासुदेवाय भविष्यपुराण उत्तरपर्व अध्याय – २८ अन्नदान की महिमा के प्रसंग में राजा श्वेत और एक वैश्य की कथा भगवान् श्रीकृष्ण कहते है – महाराज ! किसी समय मुनियों ने अन्नदान का जो माहात्म्य कहा था, उसे मैं कह रहा हूँ,…

Continue Reading भविष्यपुराण भाग – १२९

भविष्यपुराण भाग – १२८

ॐ श्रीपरमात्मने नम : श्रीगणेशाय नम: ॐ नमो भगवते वासुदेवाय भविष्यपुराण उत्तरपर्व अध्याय – २७ कांचनपुरीव्रत – विधि भगवान् श्रीकृष्ण कहते है – महाराज ! एक बार विश्व के उत्पत्ति, पालन और संहारकारक अक्षर पुरुषोत्तम भगवान विष्णु श्वेतद्वीप में सुखपूर्वक बैठे हुए थे | उसीसमय जगन्माता लक्ष्मी ने उनके चरणों…

Continue Reading भविष्यपुराण भाग – १२८

भविष्यपुराण भाग – १२७

ॐ श्रीपरमात्मने नम : श्रीगणेशाय नम: ॐ नमो भगवते वासुदेवाय भविष्यपुराण उत्तरपर्व अध्याय – २६ महानवमी ( विजयादशमी ) व्रत भगवान् श्रीकृष्ण कहते हैं – महाराज ! महानवमी सब तिथियों में श्रेष्ठ है | सभी प्रकार के मंगल और भगवती की प्रसन्नता के लिये सब लोगों को और विशेषकर राजाओं…

Continue Reading भविष्यपुराण भाग – १२७

End of content

No more pages to load