इस प्रयोग से किसी बिमारी, पाप-चिंता की ताकत नहीं कि आपको दुःख दे सके

कमर सीधी करके बैठना चाहिए मनुष्य को रोजाना प्राणायाम करना चाहिए हरि ओम का जाप करो प्राणायाम से बहुत फायदा होता है योग से शरीर स्वस्थ होता है सदा सम और प्रसन्न रहो हास्य प्रयोग रोज करो मैं सच्चिदानंद परमात्मा स्वरुप हूं मनुष्य जन्म आत्म साक्षात्कार करने के लिए ही…

Continue Reading इस प्रयोग से किसी बिमारी, पाप-चिंता की ताकत नहीं कि आपको दुःख दे सके

Indian Classical Music & it`s effect on health – Sant Asaramji Bapu

Indian Classical Music & it`s effect on health - Part I Indian Classical Music & it`s effect on health - Part IIIndian Classical Music & it`s effect on health - Part IIIEven though the items used in the preparation of food are good, but they are subjected to unhealthy processes like frying,…

Continue Reading Indian Classical Music & it`s effect on health – Sant Asaramji Bapu

Technique to become Healthy : Tribandh Pranayam- Sant Asharamji Bapu

Technique to become Healthy : Tribandh Pranayam- Sant Asharamji BapuNature of Food Food should be prepared out of only those items that are pious by nature. Milk, ghee, rice, flour, moong and vegetables like lauki (bottle gourd), parval(pointed gourd), karela(bitter gourd) and such other vegetables are recommended. Food prepared using these is virtuous.…

Continue Reading Technique to become Healthy : Tribandh Pranayam- Sant Asharamji Bapu

चतुर्मास में बिल्वपत्र की महत्ता

चतुर्मास में बिल्वपत्र की महत्ता चतुर्मास में शीत जलवायु के कारण वातदोष प्रकुपित हो जाता है। अम्लीय जल से पित्त भी धीरे-धीरे संचित होने लगता है। हवा की आर्द्रता (नमी) जठराग्नि को मंद कर देती है। सूर्यकिरणों की कमी से जलवायु दूषित हो जाते हैं। यह परिस्थिति अनेक व्याधियों को…

Continue Reading चतुर्मास में बिल्वपत्र की महत्ता

End of content

No more pages to load